August 1, 2012

Main Neend Me

 
मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया,
जब था मैं गिरने वाला ज़मीन पर, एक बहन ने सहारा लगा दिया |
मैं चल रहा था उस चोटी पर न जाने किसने किनारा लगा दिया,
पर जब गिरने वाला था तो शिवा ने बहन का सहारा दिला दिया ||

मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया ||

पंडित चला मंजिल की ओर था शायद कांटा लहू बहा गया,
हम रोए नहीं ज़ख़्म ले कर भी, कोई माँ सा हौंसला दिला गया |
हम चले फिर रफ़्तार से, मंजिल छूने की ओर,
ऐसा एक अपना हमे रौशनी का राह दिखला गया ||

मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया ||

तेरे चरणों पर आज पंडितजुका, जो जुका न ज़माने से,
हम तो अकेले हो गए थे शायद, किया मना था किसी ने अपनाने से |
जिंदगी नासूर सी लगने लगी थी, लगता था डर दिखने से,
कोई आज इस नासूर पर बहन के हक से मलहम लगा गया ||

मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया ||


एक रौशनी से है चाहत था नाम जान उन्हें दिया,
सब लबों से कहते हैं हमने प्यार दिल से किया |
जिंदगी में जब हारा उनकी आन की खातिर, न हौंसला था किसी ने दिया,
आज जो चला हूँ दो कदम तो बहन ने हाथ थाम लिया ||

मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया ||

मैं पंडित एहसानमंद हूँ जो तूने मुझे भाई है कहा,
पंडित ने है है कोशिश की ज़ज्बात जो है लिख रहा |
जो हो कोई गलती तो माफ कर देना इस नादान को,
तूने ही बटकते इस इंसान को है राष्ट दिखला दिया ||

मैं नींद में था शायद चल रहा एक बहन ने मुझे उठा दिया ||



© Viney Pushkarna
pandit@writeme.com
www.fb.com/writerpandit